Hindi Vyakaran

संधि की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

संधि की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

संधि की परिभाषा दो या दो से अधिक वर्गों या निकटवर्ती ध्वनियों के मेल से होने वाले परिवर्तन अथवा विकार को ‘संधि’ कहते है। संधि-विच्छेद शब्दों को अलग-अलग करके उनके पूर्व की स्थिति में लाना ‘संधि-विच्छेद’ कहलाता है। संधि के प्रकार ‘सन्धि’ विधान का मुख्य आधार वर्णमाला है। इसके आधार पर ‘सन्धि’ को तीन प्रमुख …

संधि की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण Read More »

पर्यायवाची शब्द

पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

पर्यायवाची शब्द का अर्थ  समान अर्थ प्रतीति कराने वाले समानार्थी शब्द “पर्यायवाची शब्द” कहलाते है। अपनी भाषा-शैली को प्रभावशाली बनाने एवं एक ही शब्द की बार-बार होने वाली आवृत्ति को रोकने हेतु पर्यायवाची शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है। भाषा में शब्द और अर्थ दोनों का अपना विशिष्ट महत्त्व एवं स्थान होता है। एक अर्थ के …

पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd) Read More »

संज्ञा की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

संज्ञा की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

संज्ञा की परिभाषा  किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, जाति, गुण, दशा, अवस्था और भाव के विशिष्ट नाम को संज्ञा कहा जाता है। संज्ञा की परिभाषा और प्रकार – हिन्दी भाषा में संज्ञा तीन प्रकार की होती है। 1. व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा  किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान के विशिष्ट नाम को व्यक्तिवाचक संज्ञा कहा जाता है। व्यक्तिवाचक …

संज्ञा की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण Read More »

सर्वनाम की परिभाषा और प्रकार

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

सर्वनाम का अर्थ– सब का नाम सर्वनाम की परिभाषा और प्रकार  सर्वनाम की परिभाषा– जो शब्द वाक्य में संज्ञा की जगह प्रयुक्त होते है, सर्वनाम कहलाते है। जैसे :- राम विद्यालय गया तथा उसने पढ़ाई की। सर्वनाम के प्रकार– हिन्दी में सर्वनाम छ: प्रकार के होते है। 1. पुरूषवाचक सर्वनाम की परिभाषा  जो सर्वनाम शब्द …

सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण Read More »

विशेषण की परिभाषा और भेद

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

हिन्दी व्याकरण का अध्याय विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण, Visheshn in Hindi, विशेषण के भेद / विशेषण के प्रकार, विशेषण के उदाहरण विशेषण का अर्थ विशेषता बताना। विशेषण की परिभाषा   जो शब्द संज्ञा और सर्वनाम शब्दों की विशेषता बताते है, उन्हें विशेषण कहते हैं। जैसे-  सुंदर बालक पढ़ रहे है।  मोहन अच्छा लड़का है। …

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण Read More »

क्रिया की परिभाषा

क्रिया की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

इस अध्याय में हमने क्रिया की परिभाषा (Kriya ki Paribhasha), क्रिया के प्रकार (Kriya ke Parkar) एवं उदाहरण (Kriya ke Udaharan) की विस्तृत चर्चा की हैं। हिन्दी व्याकरण और प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से यह विषय बहुत ही महत्वपूर्ण है। क्रिया की परिभाषा वाक्य में जिन शब्दों के द्वारा किसी कार्य का होना या करना …

क्रिया की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण Read More »

छंद की परिभाषा

छंद की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

छंद की परिभाषा अक्षरों की संख्या एवं क्रम, मात्रा, गणना तथा यति-गति से संबंध विशिष्ट नियमों से नियोजित पद्ध रचना ‘छंद’ कहलाती है। सर्वप्रथम छंद की चर्चा ऋग्वेद में हुई थी। छंद के अंग  छंद में 8 अंग होते है।  पाद  मात्रा और वर्ण  संख्या और क्रम  लघु और गुरु  गण  यति  गति  तुक छंद …

छंद की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण Read More »

अलंकार की परिभाषा

अलंकार की परिभाषा, भेद और उदाहरण

अलंकार अलंकार शब्द का शाब्दिक अर्थ आभूषण अर्थात गहने होता है। शब्द निर्माण के आधार पर अलंकार शब्द ‘अलम’ और ‘कार’ दो शब्दों के योग से बना हुआ है। ‘अलम’ शब्द का अर्थ ‘शोभा’ तथा ‘कार’ शब्द का अर्थ ‘करने वाला’ होता है। अलंकार की परिभाषा काव्य की शोभा बढ़ाने वाले तथा उसके शब्दों एवं …

अलंकार की परिभाषा, भेद और उदाहरण Read More »

समास की परिभाषा और प्रकार

समास की परिभाषा और प्रकार

समास की परिभाषा और प्रकार  समास की उत्पत्ति – सम् (पास-पास) + आस (रखना/बैठाना) समास का शाब्दिक अर्थ – संक्षिप / संक्षिप्त समास की परिभाषा दो या दो से अधिक शब्दों या पदों के परस्पर मेल की प्रक्रिया को समास कहा जाता है। जैसे- यथाशक्ति (यथा+शक्ति) समास और समास-विग्रह – समासिक पद की शब्दों के …

समास की परिभाषा और प्रकार Read More »

शब्द ज्ञान

शब्द ज्ञान | Shabd Gyan

शब्द ज्ञान शब्द की परिभाषा – एक या एक से अधिक वर्णों से बने सार्थक समूह को शब्द कहते है। जैसे- (जल = ज+ल, थल = थ+ल, कप = क+प आदि) शब्द के भेद शब्द ज्ञान का भेद मुख्यतः तीन प्रकार से किया जाता है- (i) उत्पत्ति के आधार पर (ii) रचना के आधार पर …

शब्द ज्ञान | Shabd Gyan Read More »

Scroll to Top