Geography

राजस्थान की नदियां

राजस्थान की नदियां

सिंचाई, पेयजल, भूमिगत जल स्तर को बनाए रखने एवं अन्य बहुद्देशीय कार्यों में राजस्थान की नदियां अपनी विशेष पहचान रखती हैं। अधिकांशतः राजस्थान की नदियां मौसमी हैं, जो केवल बारिश के समय प्रवाहित होती हैं और फिर सुख जाती हैं। राजस्थान की नदियां | Rivers of Rajasthan बहाव की दृष्टि से राजस्थान की नदियां (Rajasthan …

राजस्थान की नदियां Read More »

भारत में सिंचाई के प्रमुख साधन

भारत में सिंचाई के प्रमुख साधन

भारत में सिंचाई के प्रमुख साधन कुएं, नलकूप, नहर तथा तालाब है। कुएं एवं नलकूप के द्वारा सबसे ज्यादा सिंचाई की जाती है, जोकि देश के कुल सिंचित क्षेत्र का 56% है। भारत में सिंचाई खेती में कृत्रिम साधनों से पानी देने को सिंचाई कहते हैं। भारत में इसकी आवश्यकता इसलिए अधिक है क्योंकि भारत …

भारत में सिंचाई के प्रमुख साधन Read More »

राजस्थान की मिट्टियाँ

राजस्थान की मिट्टियाँ

मूल रूप से राजस्थान की मिट्टियाँ निर्वासित एवं अवशिष्ट प्रकार की हैं। मिट्टी (मृदा) भूमि की ऊपरी सतह होती है, जो चट्टानों के टूटने-फूटने एवं विघटन से उत्पन्न सामग्री तथा उस पर पड़े जलवायु, वनस्पति एवं अन्य जैविक प्रभावों से विकसित होती है। राजस्थान की मिट्टियाँ (Rajasthan ki Mittiyan) राजस्थान में निम्नलिखित प्रकार की मिट्टियाँ …

राजस्थान की मिट्टियाँ Read More »

भूकंप (Earthquake)

भूकंप, तरंगे, मापन और प्रकार

भूकंप की परिभाषा: विवर्तनिक शक्तियों द्वारा भूपर्पटी का कोई भाग अचानक अपने स्थान से हट जाता है, तब कंपन या तरंगे उत्पन्न होती हैं। इन अचानक आए कंपनों को भूकम्प (Earthquake) कहते हैं। भूकंप का केन्द्र पृथ्वी के अंदर जहाँ भूकम्प की तरंगें उत्पन्न होती हैं, उस स्थान को भूकम्प का केंद्र या उद्गगम केन्द्र …

भूकंप, तरंगे, मापन और प्रकार Read More »

राजस्थान में कृषि और उत्पादन

राजस्थान में कृषि, फसल और उत्पादन

राजस्थान में कृषि प्रमुख रूप से वर्षा पर ही निर्भर है, क्यूंकि राज्य के कुल कृषि योग्य क्षेत्र के लगभग 30 प्रतिशत भाग में ही सिंचाई की सुविधा उपलब्ध है। यहाँ के सिंचाई सुविधा वाले क्षेत्रों में मार्च से जून की अवधि में जायद फसल की पैदावार की जाती है। जायद की राजस्थान में प्रमुख …

राजस्थान में कृषि, फसल और उत्पादन Read More »

भारत की नदी घाटी परियोजनाएं

भारत की नदी घाटी परियोजनाएं

सरकारी प्रतियोगी परीक्षाओं एवं विभिन्न कक्षाओं में भारत के भूगोल (Indian Geography) के छात्रों के लिए  भारत की नदी घाटी परियोजनाएं बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है। सामान्य ज्ञान की दृष्टि से भी इसका अध्ययन आवश्यक है। भारत की नदी घाटी परियोजनाएं देश में जल विद्युत परियोजनाओं की शुरुआत 1897 ई. में सिद्रापोंग (दार्जिलिंग, पश्चिमी बंगाल) …

भारत की नदी घाटी परियोजनाएं Read More »

राजस्थान की स्थिति

राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार

राजस्थान क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है। राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार राजस्थान के सरकारी विभागों द्वारा आयोजित सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है। इस विषय से सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्न अवश्य पूछे जाते है। राजस्थान भौगोलिक स्वरूप राज्य राजस्थान भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिम भाग …

राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार Read More »

विश्व के महासागर

विश्व के महासागर | World Ocean

भारत और राज्यों के सरकारी विभागों द्वारा आयोजित सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से विश्व के महासागर बहुत ही महत्वपूर्ण  विषय है। विश्व के महासागर सम्पूर्ण पृथ्वी के लगभग 3/4 भाग में जलमण्डल का विस्तार है अर्थात विश्व के महासागर पृथ्वी के एक तिहाई भाग पर फैले हुए है। इसलिए पृथ्वी को जलीय ग्रह भी …

विश्व के महासागर | World Ocean Read More »

पृथ्वी का वायुमंडल

पृथ्वी का वायुमंडल

पृथ्वी का वायुमंडल एवं परते तापमान मे अंतर के आधार पर पृथ्वी का वायुमंडल पाँच भागों में विभाजित किया गया  है- 1. क्षोभमण्डल (ट्रोपोस्पीयर) यह पृथ्वी के धरातल की सबसे निकट की परत है अर्थात पृथ्वी का वायुमंडल की सबसे निचली परत है। इसमें तापमान मे सर्वाधिक उतार-चढ़ाव होते है, इस कारण इसे परिवर्तन मण्डल …

पृथ्वी का वायुमंडल Read More »

चट्टान - प्रकार और उदाहरण

चट्टानों के प्रकार और उदाहरण

चट्टान अथवा शैल शैल अथवा चट्टान खनिजों का समूह होती हैं। निर्माण के आधार पर शैलों को मुख्यतः तीन भागों में बाँटा गया है- आग्नेय, अवसादी और कायान्तरित या रूपांतरित 1. आग्नेय चट्टान आग्नेय शैलों का निर्माण ज्वालामुखी से निकलने वाले लावा के जमने से हुआ है। इनका निर्माण सबसे पहले हुआ इसलिए इन चट्टानों …

चट्टानों के प्रकार और उदाहरण Read More »

Scroll to Top