Culture

राजस्थान के प्रमुख मेले

राजस्थान के प्रमुख मेले

किसी देवता या देवी के मंदिर, थान पर राजस्थान के प्रमुख मेले आयोजित होते हैं। मेले का शाब्दिक अर्थ एक स्थान पर जनसमूह का मिलना और उत्सवों को मनाना होता है। राजस्थान में मेलों का प्रचलन प्राचीन काल से ही रहा है। मेले किसी एतिहासिक कथानक अथवा परंपरा से जुड़े हुए हैं। राजस्थान में आयोजित …

राजस्थान के प्रमुख मेले Read More »

Rajasthan ke Lokgeet

राजस्थान के लोकगीत (Rajasthan ke Lokgeet)

जनमानस की स्वतंत्र रूप से निकली हुई आत्मा की आवाज ही लोकगीत (Lokgeet) कहलाती है। राजस्थान के लोकगीत (Rajasthan ke Lokgeet) को अच्छा मंच देने का श्रेय इकराम राजस्थानी (चौमूं, जयपुर) को दिया जाता है। Rajasthan ke Lokgeet (राजस्थान के लोकगीत) केसरिया बालम राजस्थान का राज्यगीत और एक रजवाड़ी गीत है। मांड गायन शैली में गाया जाता …

राजस्थान के लोकगीत (Rajasthan ke Lokgeet) Read More »

राजस्थानी चित्रकला

राजस्थानी चित्रकला (Rajasthani Chitrakala)

चित्रकला (Chitrakala) का राजस्थान में इतिहास बहुत ही पुराना है। राजस्थानी चित्रकला (Rajasthani Chitrakala) के सर्वाधिक प्राचीन उपलब्ध चित्रित ग्रंथ ओध निर्युक्ति वृत्ति एवं दस वैकालिका सूत्र चूर्णी हैं। ये ग्रंथ वर्तमान में जैसलमेर दुर्ग में स्थित जिनभद्र सूरी संग्रहालय में रखे है। राजस्थान की चित्रकला का सबसे प्रथम वैज्ञानिक विभाजन आनंद कुमार स्वामी ने …

राजस्थानी चित्रकला (Rajasthani Chitrakala) Read More »

Rajasthan ke Loknrity

राजस्थान के लोकनृत्य (Rajasthan ke Loknrity)

लोक विधाओं का गढ़ राजस्थान लोकनृत्यों (Rajasthan ke Loknrity) के क्षेत्र में अपनी अलग ही पहचान रखता है। राज्य के अनेक नृत्यकारों ने देश-विदेश में अनेक ख्यातियाँ प्राप्त की हैं। बिना किसी नियम-कानून के किया जाने वाले नृत्य लोकनृत्य (Loknrity) कहलाते है। जो नृत्य नियम के साथ किए जाते हैं, वे शास्त्रीय नृत्य कहलाते है। …

राजस्थान के लोकनृत्य (Rajasthan ke Loknrity) Read More »

राजस्थान की जनजातियाँ

राजस्थान की जनजातियाँ

जनसंख्या की दृष्टि से सर्वाधिक राजस्थान की जनजातियाँ उदयपुर में और न्यूनतम बीकानेर में है। राजस्थान में जनजातियों की जनसंख्या का सर्वाधिक अनुपात बांसवाड़ा और न्यूनतम नागौर में है। राज्य की कुल जनसंख्या में जनजाति का अनुपात 13.5% है। राजस्थान की जनजातियाँ (Rajasthan ki Janjatiyan) जनसंख्या की दृष्टि से राजस्थान में सर्वाधिक जनजाति मीणा है। …

राजस्थान की जनजातियाँ Read More »

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग और किले

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग और किले

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग  राजस्थान दुर्गों के प्रकार मुख्य रूप से दुर्ग छः प्रकार के होते है- 1. गिरि दुर्ग किसी ऊंचे पर्वत पर स्थित दुर्ग गिरि दुर्ग कहलाते हैं। राजस्थान में चित्तौड़गढ़, कुम्भलगढ़, मेहरानगढ़, अचलगढ़, तारागढ़, आमेर, नाहरगढ़, सुवर्णगिरि (जालौर), सिवाना दुर्ग, तारागढ़ (बूँदी), जयगढ़, बाला किला आदि गिरि दुर्ग हैं। राजस्थान के छः …

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग और किले Read More »

Sambhar Lake

Sambhar Lake | सांभर झील राजस्थान

सांभर झील (Sambhar Lake) राजस्थान की सबसे बड़ी खारे पानी की झील है। इसका फैलाव राज्य के जयपुर, नागौर और अजमेर तीन जिलों में है। सांभर झील | Sambhar Lake यह जयपुर शहर से 65 किमी दूर पश्चिम में समुद्रतल से 300 मीटर की ऊंचाई पर फुलेरा तहसील के पास स्थित है। इस झील की …

Sambhar Lake | सांभर झील राजस्थान Read More »

Scroll to Top