भारत के खनिज पदार्थ | Minerals of India

भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाने वाले प्रमुख भारत के खनिज पदार्थ लोहा, कोयला, खनिज तेल (पेट्रोलियम), सोना, तांबा, मैंगनीज़, अभ्रक, संगमरमर, जस्ता एंव सीसा, बॉक्साइट, मोनेज़ाइट बेरिलियम, थोरियम  और पाइराइट्स हैं।

भारत के खनिज पदार्थ | Minerals of India

लोहा

प्रमुख उत्पादक राज्य बिहार, झारखण्ड, प. बंगाल,आंध्र प्रदेश, तेलंगाना ओडिशा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, महाराष्ट्र, गोवा, राजस्थान।

आर्थिक महत्व लोहा हर प्रकार की मशीनरी और कल-कारखाना निर्माण में काम आता है। सभी-धंधे उद्योग इसी पर निर्भर है।

कोयला

प्रमुख उत्पादक राज्यझारखण्ड (झरिया), छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल (रानीगंज), मध्य प्रदेश (पंचघाटी), असम (माकुम), मेघालय, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात तट।

आर्थिक महत्वकोयला दैनिक जीवन के साथ-साथ रेल के इंजन, कारखाने, जहाज़ आदि चलाने ताप बिजलीघरों और रसोई आदि के काम आता है।

खनिज तेल (पेट्रोलियम)

प्रमुख उत्पादक राज्यअसम (डिगबोई, सुरमाघाटी), मेघालय, गुजरात (खम्भात, अंकलेश्वर), मुम्बई-हाई और अरुणाचल प्रदेश।

आर्थिक महत्वखनिज तेल का उपयोग यातायात के वाहन, जहाज़, मशीनें चलाने के काम आता है; रोशनी करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

सोना

प्रमुख उत्पादक राज्यकर्नाटक (कोलार, हट्टी) और आंध्र प्रदेश (रामगिरि)। इसकी बिहार और झारखण्ड राज्य में खोज की जा रही है।

आर्थिक महत्वअत्याधिक मूल्यवान धातु, आभूषण आदि बनाने एवं अंतरराष्ट्रीय विनिमय में प्रयोग किया जाता है।

तांबा

प्रमुख उत्पादक राज्यझारखण्ड (सिंहभूम), राजस्थान (खेतड़ी, दरीबो), मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश (अग्निगुण्डल), उत्तराखण्ड (गढ़वाल), पश्चिम बंगाल (दार्जिलिंग), महाराष्ट्र (दौंड), कर्नाटक, गुजरात।

आर्थिक महत्वबिजली की तारें बनाने तथा मुद्राऐं, बरतन और मशीनों के कल पुर्जे आदि बनाने के काम आता है।

मैंगनीज़

प्रमुख उत्पादक राज्यमध्य प्रदेश (झाबुआ, छिन्दवाड़ा, बालाघाट), महाराष्ट्र (नागपुर), गुजरात (पंचमहल), आंध्र प्रदेश (विशाखापट्नम), कर्नाटक, गोवा, ओडिशा, बिहार, झारखण्ड, राजस्थान।

आर्थिक महत्वयह इस्पात बनाने में तथा रासायनिक उद्योग में काम आता है। इसके निर्यात से विदेशी मुद्रा अर्जित की जाती है।

Note: भारत और राज्यों के सरकारी विभागों द्वारा आयोजित सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से भारत के खनिज बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है। भारत के खनिज विषय से सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्न अवश्य पूछे जाते है।

अभ्रक

प्रमुख उत्पादक राज्यझारखण्ड (हज़ारीबाग), बिहार (मुंगेर, गया), आंध्र प्रदेश और राजस्थान

आर्थिक महत्वयह बिजली का सामान, दवाइयाँ, गैस-लैंप की चिमनियाँ आदि बनाने में प्रयुक्त होता है। भारत में संसार भर का 75 प्रतिशत अभ्रक का उत्पादन होता है।

संगमरमर

प्रमुख उत्पादक राज्यमध्य प्रदेश (जबलपुर), राजस्थान (अलवर, मकराना, जयपुर, अजमेर, जोधपुर)। राजस्थान का संगमरमर विश्व विख्यात है।

आर्थिक महत्वसुन्दर और कीमती इमारतों तथा मूर्तियों के निर्माण में संगमरमर का उपयोग किया जाता है।

नमक

प्रमुख उत्पादक राज्यराजस्थान (साँभर झील), हिमाचल प्रदेश (सेंधा नमक की खानें), गुजरात (कच्छ और खम्भात की खाड़ी), तमिलनाडु, महाराष्ट्र, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, केरल (समुद्र तट के साथ-साथ)।

आर्थिक महत्वनमक हमारे भोजन में नित्य प्रयोग की वस्तु है। इसे पशुओं को भी खिलाते हैं। इसका उपयोग अनेक रासायनिक पदार्थ, अम्ल आदि बनाने में भी किया जाता है।

सीसा एवं जस्ता

प्रमुख उत्पादक राज्यराजस्थान (उदयपुर), ओडिशा।

आर्थिक महत्वमुख्यतया सीसे एवं जस्ते का उपयोग बर्तनों, बैट्रियों और छपाई में होता है। इसके अलावा लोहे की चादरों पर जंग लगने से बचाने के काम आता है।

बॉक्साइट

प्रमुख उत्पादक राज्यआंध्र प्रदेश, बिहार, झारखण्ड, गोवा, गुजरात, जम्मू और कश्मीर, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश।

आर्थिक महत्वयह एल्यूमीनियम धातु बनाने के काम आने वाला प्रमुख अयस्क है।

मोनेज़ाइट बेरिलियम, थोरियम  और पाइराइट्स

प्रमुख उत्पादक राज्यझारखण्ड, केरल, राजस्थान।

आर्थिक महत्वअणु शक्ति प्राप्त करने के लिए प्रयुक्त होता है।

भारत के खनिज पदार्थ

Scroll to Top